किसका भरा खजाना सचिव /ग्राम पंचायत…?रशीद नही मिली किसी को

किसका भरा खजाना सचिव /ग्राम पंचायत…?

रशीद नही मिली किसीको

 

बिलासपुर—:पंचायत चुनाव में सबसे ज्यादा जेब ग्राम पंचायतो कि सचिव कि भर रही है सरकार ने लोकप्रतिनिधित्व के नियमो में शिथिलता दी और उन सब लोगोके लिए चुनाव लड़ने का रास्ता खोल दिया जो अक्षर ज्ञान नही भी रखते है किन्तु सचिवो पर नियमो कि कड़ाई नही कि सचिव आज भी स्वयं को जनपद का स्वयंभू कलेक्टर मानते है उन्होंने चुनाव लड़ने के इच्छुक व्यक्तियों से कर के स्वनिर्धारण कि राशि में जमकर गोलमाल किया सचिवो ने नामांकन पत्र जमा करने वाले को अदेयता प्रमाणपत्र तो जारी किया किन्तु कर के रूप में ली गई राशी कि रशीद नही दी कर एक हजार से लेकर 8 और 10 हजार तक लिया गया निक्षेप राशी 25,50और 500 तक है किन्तु कर के रूप में ऐसी डकैती हुई कि ग्राम पंचायत का कोष नही सचिव का खजाना भर गया सचिवो ने जो अनाप सनाप कर प्रत्याशियों से वसूला है उसे ही आधार बनाकर यदि पुरे ग्राम पंचायत पर करारोपण हो जाए तो गाँव में या तो विकास कि आंधी आजाएगी अथवा ग्राम वासी रोज आन्दोलन करने लगेंगे जिन्हें चुनाव लड़ने का चस्का लगा है उन्होंने मन मनमर्जी कर कि राशी सचिव को दे दी और सचिव ने कार कि कितनी राशी सरकारी कोष में दी या देंगे यह किसीको नही पता चुनाव के पुर्व एक नए किस्म का भ्रष्टाचार अथवा लुट हुई है जिसका खुलासा चुनाव केबाद ही होगा अभी तो उत्तरदायी अधिकारी यही कह रहे है कि जिन स्थानों से सचिवो केबारे में सिकायत आएगी हम जाँच करेंगे सचिवो द्वारा मनमर्जी का टैक्स और रशीद ना देने कि सर्वाधिक सिकायत बिल्हा और मस्तुरी क्षेत्र से आई है 

vandana